Trending

0 56

Rahul Gandhi who is set to take over as the Congress president faces the challenge of reviving and rebuilding the party ahead of the 2019 Lok Sabha election. (Catch LIVE updates here)

To execute his long-term plan, the 47-year-old’s first task will be a revamp of the party. Congress leaders suggest he would go for an overhaul, completing a generational shift in the 131-year-old party brought about by his elevation.

His mother, Sonia Gandhi, who took over as the party in March 1998, has served as the Congress chief for record 19 years.

He will have to ensure that the transition is smooth by striking a right balance between young leaders and the old guard, which in the past had some reservations about his style of functioning.

In his four years as the Congress vice-president, Gandhi had tried to open the party to end the heirloom politics but didn’t make much headway.

As party chief, the Amethi MP would have the authority to bring about the changes. His training in Aikido – Gandhi has a black belt in the Japanese martial that lays emphasis on harmony – will come in handy.

He also has to lead from the front to galvanise an otherwise demoralised Congress cadre struggling to recover after a series of electoral setbacks.

Gandhi has long had the reputation of a reluctant leader, though some analysts say he has displayed greater political acumen since the 2014 election defeat.

A good show in Gujarat, where he is leading an aggressive campaign and has attempted a broad coalition of disparate caste groups, will not only give him a good start but also silence his detractors within the party.

Prime Minister Narendra Modi’s home state votes on December 9 and 14.

Next year, too, will test him. Retaining Karnataka and dethroning the BJP in Madhya Pradesh, Chhattisgarh and Rajasthan will be a daunting task for him and the party before the big one — the 2019 general elections.

The Congress’ national fortunes hinge on its revival in states but intense infighting coupled with indecisiveness to address the leadership issues is coming in the way of the revival push.

The party desperately needs to get its house in order in key states of Uttar Pradesh, Bihar, Andhra Pradesh, Telangana, Tamil Nadu, Odisha and West Bengal, where it has ceded political space to rivals.

Reconnecting with the middle class, youth and common people who over the years have grown distant from the Congress has been on Gandhi’s agenda for a long time.

He has less than two years to make the Congress fighting fit to corner the BJP-led NDA government on critical issues and present it as in effective alternative.

With around 16 months left for the next Lok Sabha election, he will have to decide on alliances partners to prevent a division of the opposition vote that could help the BJP.

Stitching up alliances perhaps is his second biggest challenge after reviving the party.

Sonia Gandhi enjoys a good rapport with other opposition parties. Crediting her with bringing together the United Progressive Alliance, CPM leader Sitaram Yechury described the 70-year-old Sonia as the “glue” that bound the Congress as well as secular allies.

Rahul Gandhi will have to be the Congress president, the “glue” and more.

0 55
jr03-modi-05
PM narendra modi public meeting out side SGVP hospital in Ahmedabad on Sunday…express photo javed raja
3-12-2017

Days after Gandhinagar Archbishop Thomas Macwan warned against “nationalist forces” and urged Christians to pray for the victory of those who “respect every human being”, Prime MinisterNarendra Modi said on Sunday that “manavata” (humanity) was the “sanskaar” (values) of “rashtravaadee” (nationalists), and cited instances of how his government had rescued people of other faiths,including Christians.

“Manavata apni rago ma chhe, apna sanskaar ma chhe (Humanity is in our veins, in our values). Unfortunately, it comes so naturally to us that we do not publicise it, and the world remains in the dark (about it)… I was shocked when a religious person issued a fatwa asking for rashtrapremio (patriots) to be ousted,” said Modi, addressing a public meeting after dedicating a Swaminarayan Gurukul Vishvavidya Pratisthanam (SGVP) hospital, on the Sarkhej-Gandhinagar highway in Ahmedabad.

While he did not name Macwan, Modi added: “To help people without considering their religion, caste or nationality is the basic essence of our sanskaar… and there cannot be a more worrisome matter than this, that people have objection to it.”

Modi then cited the examples of Nepal and Yemen, saying Indian agencies rescued a number of foreign nationals along with Indians. He also mentioned External Affairs Minister Sushma Swaraj’s efforts in granting visas to those in need in Pakistan. “These are matters related to humanity. Today, some people have challenged our humanity. Therefore, I want to say this to the people of India, from this pious land,” he said.

Modi also listed seven instances when his government rescued Indian citizens, including Christians, abroad. He cited the case of Indian nurses in Iraq. “We took help and got them back safely,” he said. He also mentioned the cases of Father Tom Uzhunnalil, who was rescued from Yemen, Father Alexis Prem Kumar, who was rescued from Afghanistan, and Judith D’Souza, who was also rescued from Afghanistan, pointing out that they were all Christians and children of India.

He said his government had also negotiated the release of five people from Tamil Nadu who had been handed the death sentence in Sri Lanka, and about 3,400 Indian fishermen in the jails of Pakistan and Sri Lanka. “All this was possible because of rashtrabhakti (patriotism)… We are following the principles of Sarvajan Hitay, Sarvajan Sukhay, Sabka Saath, Sabka Vikaas,” he said.

In an official communique dated November 21, Archbishop Thomas Macwan had urged churches in Gujarat to hold prayers for election of those “who would remain faithful to our Indian Constitution and respect every human being without any discrimination”. Stating that “the secular and democratic fabric of our country is at stake”, he had said, “Human rights are being violated. The constitutional rights are being trampled. Not a single day goes without an attack on our churches, church personnel, faithful or institutions. There is a growing sense of insecurity among the minorities, OBCs, BCs, poor and so on. Nationalist forces are on the verge of taking over the country. The election results of Gujarat state assembly can make a difference.”

0 41

मुंबई आतंकवादी हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद की पार्टी जमात-उद-दावा अगले साल पाकिस्तान में होने वाले आम चुनाव में शामिल होगी। खुद सईद ने इसका एलान किया है। उसने यह भी कहा है कि 2018 कश्मीर की आजादी की मांग करने वालों के नाम है।

मिल्ली मुस्लिम लीग के बैनर तले लड़ेगा चुनाव

– न्यूज एजेंसी के मुताबिक, सईद ने कहा कि उसकी पार्टी जमात-उद-दावा 2018 में होने वाले आम चुनाव में मिल्ली मुस्लिम लीग के बैनर तले भाग लेगी।

– उसने यहां यहां चाउबुर्जी में जमात-उद-दावा के हेड ऑफिस में कहा, “मिल्ली मुस्लिम लीग अगले साल आम चुनाव में उतरने का प्लान बना रही है। मैं भी 2018 को उन कश्मीरियों के नाम करता हूं जो आजादी के लिए संघर्ष कर रहे हैं।”

PAK को भी हिदायत
– सईद ने कहा कि मैं भारत को बताना चाहता हूं कि मैं कश्मीरियों का सपोर्ट करना जारी रखूंगा। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वहां

क्या परेशानियां हैं। भारत चाहता है कि हम कश्मीरियों के लिए आवाज उठाना बंद कर दें। वह पाकिस्तान सरकार पर दबाव बना रहा है।

मैं पाकिस्तान को बताना चहता हूं कि पर्दे के पीछे से जारी डिप्लोमैसी ने सिर्फ कश्मीर के मुद्दे को नुकसान पहुंचाया है।

EC का पार्टी को मान्यता देने से इनकार
– बता दें कि जमात-उद-दावा ने अगस्त में मिल्ली मुस्लिम लीग पार्टी बनाई थी। हालांकि, पाकिस्तान के इलेक्शन कमीशन (ईसी) इसे पॉलिटिकल पार्टी के तौर पर मान्यता देने से दो बार इनकार कर चुका है।
– हालांकि, कहा जा रहा है कि सईद की पार्टी को मान्यता नहीं भी मिली तो वह निर्दलीय या किसी दूसरी पार्टी से चुनाव लड़ सकता है।

24 नवंबर को रिहा गया था सईद
– सईद को पाकिस्तान सरकार ने इस साल जनवरी से नजरबंद किया था।
– उसे आगे किसी दूसरे मामले में नजरबंद न करने का फैसला किया गया था। इसके बाद सईद को 24 नवंबर को नजरबंदी से रिहा कर दिया गया था।

सईद UN की ब्लैक लिस्ट में शामिल
– सईद मुंबई में नवंबर 2008 में किए गए आतंकी हमले का मास्टरमाइंड है। इस हमले में 166 लोगों की मौत हो गई थी।
– उसे यूनाइटेड नेशंस ने यूएन सिक्युरिटी काउंसिल रिजोल्यूशन 1267 के तहत दिसंबर 2008 में ब्लैक लिस्टेड किया था।
– अमेरिका ने भी उसे ग्लोबल टेररिस्ट डिक्लेयर किया है और उसके सिर पर एक करोड़ डॉलर का इनाम रखा है।

 

0 33

गुजरात विधानसभा चुनाव की उल्टी गिनती शुरू हो गई. पहले चरण के मतदान में अब पांच दिन का वक्त बचा है. ऐसे में राजनीतिक दल चुनाव प्रचार के अंतिम दौर में पूरी ताकत झोंके हुए हैं. इसी सिलसिले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज एक बार फिर गुजरात दौरे पर हैं.

अपने चुनावी कार्यक्रम के तहत पीएम मोदी सबसे पहले भरूच पहुंचे. इस दौरान पीएम मोदी ने गुजराती भाषा में अपनी स्पीच की शुरुआत की. यहां पीएम ने सबसे पहले यूपी निकाय चुनाव में बीजेपी की जीत और कांग्रेस के खराब प्रदर्शन पर टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि यूपी पंडित जवाहरलाल नेहरू, मोती लाल नेहरू, इंदिरा गांधी, सोनिया गांधी की कर्मभूमि रही, लेकिन निकाय चुनाव में उनकी क्या हालत हुई, ये सबने देखा.

इसके बाद अपने भाषण के दौरान पीएम मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और राजीव गांधी पर भी सवाल उठाए. मोदी ने कहा, ‘इंदिरा गांधी खुद को गुजरात की बेटी कहती थीं और राजीव गांधी खुद को गुजरात का बेटा कहते थे. उन्हें बताना चाहिए कि वो किस अस्पताल में पैदा हुए थे?’

पीएम मोदी ने ये भी कहा कि भरूच और कच्छ जिले में मुस्लिमों की काफी आबादी है और यहां भी बीजेपी के शासन में तेजी से विकास कार्य हुए हैं. इन दो जिलों के नाम काफी ऊपर आते हैं.

पीएम मोदी इसके बाद सुरेंद्रनगर में रैली करेंगे. साथ ही वो श्री स्वामी नारायण गुरुकुल विश्विद्या प्रतिष्ठान के कार्यक्रम में भी शिरकत करेंगे. वहीं शाम में वो राजकोट में रैली करेंगे.

चुनाव प्रचार के इस अंतिम दौर में एक तरफ जहां पीएम मोदी जनता के बीच जाकर अपनी सरकार की उपलब्धियां गिना रहे हैं, वहीं कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी पूरी ताकत झोंकी हुई है. पीएम की रैली के 2 दिन बाद राहुल फिर से गुजरात जा रहे हैं. कांग्रेस उपाध्यक्ष 5 और 6 दिसंबर को रैलियां करेंगे. इससे पहले पीएम मोदी के पिछले गुजरात दौरे के बाद राहुल गांधी बिना किसी पूर्वनियोजित कार्यक्रम के गुजरात पहुंच गए थे.

बता दें कि गुजरात में दो चरण में मतदान होना है. पहले चरण के लिए 9 दिसंबर और दूसरे चरण के लिए 14 दिसंबर को वोटिंग होगी. वोटों की गिनती 18 दिसंबर को होगी.

0 46
गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान में अब सिर्फ 5 दिन ही बचे हैं. पहले दौर में 89 सीटों पर 9 दिसंबर को और दूसरे दौर में 93 सीटों पर 14 दिसंबर को मतदान होगा. अभी तक के चुनाव प्रचार में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बीजेपी को हर मोर्चे पर कड़ी टक्कर देने की कोशिश की है. राहुल के तीखे सवालों ने बीजेपी के लिए परेशानी जरूर खड़ी है वह रोज पीएम मोदी से सवाल पूछ रहे हैं. वहीं दूसरी ओर उन्होंने बीजेपी को हराने के लिए जातिगत घेराबंदी भी इस बार तगड़ी की है. लेकिन इसके बावजूद कांग्रेस के सामने अभी बड़ी चुनौतियां हैं.
मतदान में 5 दिन, कांग्रेस के सामने हैं ये 10 चुनौतियां
  1. केंद्र की राजनीति में आने से पहले अपने तीन बार के शासनकाल में पीएम मोदी ने गुजरात के अंदर अपनी व्यक्तिगत छवि एक मजबूत क्षेत्रीय नेता के तौर पर कर चुके हैं. क्या राहुल गांधी का आक्रामक चुनाव प्रचार और उनके साथ जुड़े जातिगत आंदोलनों के तीनों नेता इस छवि को तोड़ पाने में कामयाब हो पाएंगे.
  2. हाल ही में बीजेपी ने उत्तर प्रदेश में हद से ज्यादा उलझे जातिगत समीकरणों को पीछे छोड़ते हुए प्रचंड बहुमत हासिल किया है. इसके पीछे भी बहुत हद तक पीएम मोदी की ही छवि है. यूपी निकाय चुनाव में भी बीजेपी को ही जीत मिली है तो क्या इसका असर राहुल गांधी या कांग्रेस कम कर पाएगी.
  3. यह नहीं भूलना चाहिए कि नरेंद्र मोदी खुद भी गुजरात से आते हैं. वह इन 2 दिनों में ही 7 रैलियां कर डालेंगे. पीएम मोदी हर रैली में गुजराती में बोलते हैं और गुजराती अस्मिता की बात करते हैं. इस समय देश के सबसे बड़े नेता के तौर पर मोदी वोट मांगेंगे तो हो सकता है अचानक उठा ‘भावनात्मक ज्वार’ सारे मुद्दों को गौण कर दे. कांग्रेस को यह लड़ाई अंतिम समय तक बिना थके लड़ने होगी.
  4. गुजरात मॉडल में कितनी भी बुराइयां हों लेकिन इसको यह कहकर पूरी तरह से खारिज नहीं किया जा सकता है कि गुजरात में कुछ भी नहीं हुआ है.
  5. विकास के मुद्दे पर शुरू हुआ प्रचार ‘जातिवाद’ से ‘जनेऊ’ के जाल में आकर फंस गया है. अब बीजेपी ने बहुत आसानी से इसे मोदी बनाम राहुल बना रही है. कांग्रेस भी अपने मंच से सीधे नरेंद्र मोदी को ही खारिज कर रही है. कहीं यह कांग्रेस के लिए भारी न पड़ जाए.
  6. कांग्रेस को यह नहीं भूलना चाहिए कि 2007 के विधानसभा से पहले भी बिजली के मुद्दे पर सीएम रहते मोदी ने बड़ा आंदोलन झेला था. संघ से जुड़े संगठन भारतीय किसान संघ ने भी विरोध प्रदर्शन किया था. उस समय कई पाटीदार नेता भी मोदी के खिलाफ बगावत का झंडा बुलंद किए हुए थे. उस गुस्से के आगे जीएसटी को लेकर हुई नाराजगी कुछ भी नहीं है.
  7. 2007 के विधानसभा चुनाव में भी मोदी ने पटेलों और क्षत्रियों की नाराजगी झेलते हुए जीत दर्ज की थी क्योंकि उस समय तक वह गुजराती जनमानस के बीच अपनी खुद की छवि गढ़ चुके थे. कांग्रेस ने जिन समीकरणों का सहारा ले रही है वह कितना कारगर होगी यह गौर करने वाली बात होगी.
  8. गुजरात में दलित वर्ग के बीच बीजेपी को लेकर नाराजगी जरूर है. हाल ही में जो घटनाएं हुई हैं उनका असर कितना पड़ा होगा यह तो बाद में पता चलेगा लेकिन उन्हीं घटनाओं को लेकर हुए विरोध के बीच ही बीजेपी ने कांग्रेस को निकाय चुनाव में पराजित किया है.
  9. कांग्रेस को इस बात पर भी ध्यान देना चाहिए कि संघ से जुड़े कई संगठन और एनजीओ आदिवासियों और दलितों के बीच काम करते रहते हैं. जो बीजेपी के लिए दिन रात प्रचार कर रहे हैं.
  10. गुजरात में बीजेपी के पास कार्यकर्ताओं की एक बड़ी फौज है. उसने हर कार्यकर्ता को पन्ना प्रमुख बना रखा है. बूथ मैनेजमेंट में कांग्रेस को 24 घंटे मेहनत करनी होगी. रैलियों में जो भीड़ आ रही है उसे बूथ तक कैसे पहुंचाया जाए इसके लिए कांग्रेस को ‘परिश्रम की पराकाष्ठा’ करने होगी.

ओपिनियन

0 76
By Vipin Agnihotri With every passing day, Muslim youngsters are joining BJP. For them, the lure is a “slice of the development pie”. “There is...