बॉलीवुड

0 173

सैफ अली खान अपनी पत्नी और मां के साथ

 

आई आई एन डेस्क मुंबई –

जब करीना कपूर की अक्टूबर 2012 में सैफ अली खान से शादी हुई तब से ही वह कुछ खास धार्मिक संगठनों के निशाने पर रही हैं। करीना को ‘लव जिहाद’ मामले में पोस्टर गर्ल की तरह भी इस्तेमाल किया गया। ‘लव जिहाद’ विवादित टर्म धार्मिक कट्टरपंथियों ने मुस्लिम युवकों की हिन्दू महिलाओं से शादी के मामले में गढ़ा है। ‘लव जिहाद’ टर्म से निराश सैफ अली खान मानते हैं कि उनकी अभिनेत्री पत्नी को धार्मिक ग्रुप बेवजह टारगेट करते हैं।

सैफ ने कहा, ‘लोगों का मानना है कि करीना को मुस्लिम बना दिया गया है। नहीं करीना को मुस्लिम नहीं बनाया गया है।’ 44 साल के बॉलिवुड अभिनेता सैफ अली खान का मानना है कि ‘लव जिहाद’ की बात अफसोसजनक है। उन्होंने कहा कि ऐसी बातें भावनात्मक, बौद्धिक और सामाजिक स्तर पर कहीं भी किसी रूप में नहीं टिकती हैं। सैफ ने कहा कि उन्हें अपने आचरण, विवेक और बौद्धिकता की कसौटी पर रखकर इन मामलों में बोलना चाहिए।

सैफ ने कहा कि करीना को अन्य किसी चीज के मुकाबले उन्हें उनके काम के जरिए समझा जाना चाहिए। सैफ ने कहा, ‘देश को करीना के सिनेमा और समाज में योगदान पर गर्व होना चाहिए। वह महिला हकों और उनकी बेहतर सेहत के लिए काम करती हैं। करीना को भी मजबूती के प्रतीक और आधुनिक शख्सियत के तौर पर ग

ओपिनियन

0 76
By Vipin Agnihotri With every passing day, Muslim youngsters are joining BJP. For them, the lure is a “slice of the development pie”. “There is...