Authors Posts by Babita Mittal

Babita Mittal

2036 POSTS 0 COMMENTS

0 180

aamir khan creativity

बॉलीवुड के मिस्टर परफेक्शनिस्ट उन सितारों में हैं जो फिल्मों के बिजनेस को नहीं, क्रिएटिविटी पर ज्यादा ध्यान देते है। अभी ही इन्होने आमिर मीडिया से अनुसार हुए और उन्होंने बॉक्स ऑफिस और फिल्म के बिजनेस के बारे में कुछ अहम बातें भी है। पेश है उनसे बातें कुछ अंश वाली है। कमाई की चिंता है बिल्कुल नहीं। मैं कमाई को लेकर कभी किसी प्रकार का दबाव का अहसास नहीं करता हूं। अगर अब मैं यह सोचने लगूं कि पीके के बाद मुझे किसी ऐसी फिल्म में काम करना है जो 400 करोड़ का कारोबार दे सकती है तो मेरे विकल्प एक स्थिर हो जाएंगे।

फिर मैं उन्हीं फिल्मों में काम करने की सोचूंगा जो जबरदस्त कमाई कर सकती हैं। मैं कभी फिल्म साइन करने से पहले यह नहीं सोचता कि वह फिल्म कितनी कमाई करेगी। मैं स्टोरी देखकर फिल्म के लिए हां या ना करता हूं। सही बात तो यह है कि जब कोई क्रिएटिव आदमी पैसों के लालच से फिल्म हस्ताक्षर करना शुरू करता है तो वह एक्टर नहीं बल्कि बिजनेसमैन बन जाता है।

मैं कभी भी रचनात्मकता की तुलना पैसे से नहीं करता हूं। मैं केवल वह काम करता हूं जो मुझे अच्छा लगता है। मैं खुद को बहुत बड़ा सुपरस्टार नहीं मानता।  मैं एक स्ट्रीट परफॉर्मर की जैसा हूं जिसके टिकट की कोई राशि नहीं होती। मैं जब फिल्म करता हूं तो मैं कभी फीस नहीं मांगता हुं।

0 196

nitin gadkari farmer suicide

हस्तिनापुर के खादर स्थित बस्तौरा नारंग गांव पहुंचे केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने किसानों के जख्मों पर मरहम लगाते हुए कहा कि आत्महत्या नहीं, काम करो। केंद्र सरकार पूरी ताकत से पीछे खड़ी है। विश्वास करो अंधेरा छंट जाएगा और प्रकाश फैलेगा। किसानों को हर मदद देने के लिए प्रधानमंत्री कृत संकल्पित हैं।

उन्होंने किसानों को भूमि की जांच कराकर फसल उगानी चाहिए ताकि उससे भरपूर फसल मिले और किसान को मुनाफा हो। एक साथ सभी किसान ज्यादा एक ही फसल का उत्पादन न करें, बल्कि अलग अलग खेती कर उत्पादन करें।

किसानों की बदहाली को उकेरते हुए गडकरी ने कहा कि हमारे मुम्बई में बर्तन साफ करने के लिए राख 18 रुपये किलो मिलती है, जबकि देश में गेहूं चावल 14-15 रुपये किलो मिलता है। ये किसान का दुर्भाग्य ही तो है।

गन्ने से इथेनॉल बनाएं

किसानों से बातचीत में गडकरी ने उन्हें सुझाव भी दिए। कहा कि उनके संसदीय क्षेत्र में गन्ना किसान इथेनॉल बनाने पर भी जोर देते हैं। इथेनॉल से जहां उनकी कमाई में वृद्धि होगी वहीं यातायात के लिए भी यह लाभप्रद साबित होगा। उन्होंने कहा कि नागपुर में 100 फीसदी इथेनॉल पर 200 एसी बसें चलाने की योजना है। इस योजना से लखनऊ को भी रूबरू कराया जा चुका है।

डिटर्जेट बनाने में चीनी मददगार

गन्ना किसानों को वैकल्पिक इस्तेमाल के बारे में उन्होंने बताया कि गन्ने की मदद से ही डिटर्जेट तैयार किया जा रहा है। आमतौर पर डिटर्जेट इस्तेमाल के लिए आवश्यक कच्चे माल की लागत 70 रुपये प्रति किलो के हिसाब से लगती है जबकि गन्ना महज 24-25 रुपये किलो बिकता है। इसी तरह गन्ना से निकलने वाली लुगदी से बिजली तैयार की जा सकती है।

 

0 176

no women director indian psus

गेल, ओएनजीसी, एनटीपीसी, सेल और पंजाब नेशनल बैंक सहित सार्वजनिक क्षेत्र (पीएसयू) की 32 कंपनियों के निदेशक मंडल में अभी तक एक भी महिला निदेशक की नियुक्ति नहीं की गई है। भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड ने सभी सूचीबद्ध कंपनियों के निदेशक मंडल में कम से कम एक महिला निदेशक की नियुक्ति को अनिवार्य कर दिया है। इस नियम का अनुपालन करने की समयसीमा एक अप्रैल को समाप्त हो गई है।

– एक भी महिला निदेशक नहीं

प्राइम डेटाबेस के अनुसार जिन अन्य सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों में एक भी महिला निदेशक नहीं है उनमें भारत इलेक्ट्रॉनिक्स, भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन, कंटेनर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया, पावर फाइनैंस कॉर्पोरेशन,ग्रामीण विद्युतीकरण निगम (आरईसी) शामिल हैं। प्राइम डेटाबेस द्वारा जुटाई गई सूचना के अनुसार नेशनल स्टाक एक्सचेंज में सूचीबद्ध 180 कंपनियों ने तय तारीख तक अपने बोर्ड में एक भी महिला निदेशक की नियुक्ति नहीं की थी। इनमें 32 सार्वजनिक क्षेत्र की इकाइयां व सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक शामिल हैं।

– 12 प्रतिशत ने नहीं किया नियुक्त

प्राइम डेटाबेस के प्रबंध निदेशक प्रणव हल्दिया ने कहा, ”एनएसई में सूचीबद्ध 1,456 कंपनियों में से 12 प्रतिशत यानी 180 ने अभी तक महिला निदेशक की नियुक्ति नहीं की है।’ इस साल पहली अप्रैल तक 872 कंपनियों में 832 महिलाओं को 912 निदेशक स्तर के पदों पर नियुक्त किया गया था। इन 872 कंपनियों में से 43 कंपनियों के निदेशक मंडल में पहले से एक महिला निदेशक थी, लेकिन इन कंपनियों ने दूसरा महिला निदेशक नियुक्त किया है।

0 172

arvind kejriwal wagonr

दिल्ली में सत्ता में आने से पहले और बाद में पार्टी के भीतर उपजे विवाद के बाद देश-विदेश में पार्टी के तमाम कार्यकर्ता नाराज हो गए हैं। नाराजगी का आलम यह है कि पार्टी के एक समर्थक, जिन्होंने अरविंद केजरीवाल को ब्लू वैगन-आर कार दान में दी थी, अब उन्होंने अपना दान वापस मांगा है। वहीं, जब इस खबर पर आम आदमी पार्टी से प्रतिक्रिया मांगी गई तब एक पार्टी नेता ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी जाएगी।

यह वही नीले रंग की कार है, जो अरविंद केजरीवाल की पहचान भी बन गई थी। जी हां, उनकी सादगी की पहचान।

दरअसल, लंदन में रहने वाले सॉफ्टवेयर इंजीनियर कुंदन शर्मा ने आप पार्टी को यह कार दान में दी थी और अब उन्होंने ट्वीट के जरिये अपनी नाराजगी जताते हुए अपनी मांग सामने रखी है।

एनडीटीवी के रवीश कुमार को टैग करते हुए उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है कि जो नीली वैगन आर, बाइक और लाखों रुपये मैंने ‘आप’ को दिए वह वापस दे दो।

उन्होंने पार्टी पर सवाल उठाते हुए कहा है कि मुझे खुशी होगी अगर पार्टी दिए गए दान को वापस लेने का अधिकार देती है। साथ ही उन्होंने कहा कि बालयान जैसे विधायकों को वापस बुलाने के अधिकार के बजाय यह अधिकार दे दिया जाना चाहिए। बालयान को वापस बुलाना तो मुमकिन नहीं है, सो दान को वापस लेने का अधिकार दे दिया जाना चाहिए।

उन्होंने यह भी ट्वीट किया है कि वह अरविंद केजरीवाल को बहुत बड़े समर्थक थे, जब वह पार्टी को दूर से देख रहे थे, लेकिन जब करीब से जाना तब सारी उम्मीदों पर पानी फिर गया, जो चमकता है जरूरी नहीं कि सोना हो…

 

बता दें कि एक निजी चैनल को दिए गए इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि यह कार अब भी उनकी पत्नी के नाम पर रजिस्टर है। उन्होंने कहा कि वह इस कार का प्रयोग नहीं कर रहे थे। वह इस कार को ‘आप’ को देना चाहते थे, लेकिन कुछ हिचक रहे थे। जब उन्होंने निर्भया आंदोलन में पार्टी के रुख को देखा तो यह कार पार्टी को दान में दे दी।

अरविंद केजरीवाल ने यह कार पार्टी के रोहतक के प्रत्याशी को दे दी थी, और खुद इनोवा गाड़ी में चल रहे थे। लेकिन, बताया जा रहा है कि अब यह नीली कार वापस उनके पास आ गई है।

अपने ट्वीट में केजरीवाल पर प्रहार करते हुए कुंदन शर्मा ने लिखा है कि 24 घंटे लोकपाल के नाम की माला जपने वाले अरविंद ने प्रशांत और योगेंद्र के खिलाफ लगे साजिश के आरोपों की जाँच की बारी आई तो खुद लोकपाल बन गये!

उन्होंने कहा कि जिन्हें भी निकाला गया वह सब गलत हो सकते हैं लेकिन उनके सवाल गलत नहीं थे।

 

कुंदन शर्मा ने अपने एक ट्वीट में यह भी स्पष्ट किया है कि उन्होंने चंदा आम आदमी पार्टी को दिया था न कि केजरीवाल को…. उन्होंने ट्विटर पर वह तस्वीर भी साझा की है जिसमें उनके द्वारा आम आदमी पार्टी को 1,75,000 रुपये के दान की रसीद है।

 

0 183

paresh rawal narendra modi role

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर फिल्म बनने जा रही है। इस फिल्म में उनका किरदार परेश रावल निभा रहे हैं। परेश रावल इन दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर आधारित फिल्म की शूटिंग को लेकर बहुत उत्साहित नजर आ हैं।

परेश रावल को लगता है कि नरेंद्र मोदी का किरदार निभाना एक कलाकार के रूप में एक बड़ी जिम्मेदारी है जिसे निभाने की वो पूरी शिद्दत से कोशिश करेंगे। हालांकि अभी इस फिल्म का नाम क्या होगा, यह तय नहीं हुआ है। लेकिन बताया जा रहा है कि फिल्म की शूटिंग इस साल अगस्त में शुरू हो सकती है।

गौरतलब है कि फिल्म का निर्माण परेश रावल खुद कर रहे हैं। वह इससे पहले फिल्म ‘ओह माई गॉड’ बतौर निर्माता बना चुके हैं जिसमें उन्होंने मुख्य किरदार भी निभाया था।

0 209

kapil sharma injured

कॉमेडी किंग कपिल शर्मा अपने खास सेंस ऑफ �यूमर और आईक्यू के लिए जाने जाते हैं। इसी की बदौलत वे दर्शकों के दिलों में जगह बना चुके हैं। वे अब टीवी की दुनिया से बाहर निकलकर बडे पर्दे पर भी किस्मत आजमाने जा रहे हैं। ऎसे में उन्हें फिट एंड फाइन दिखने के लिए ज्यादा जोर लगाना पड रहा है। कपिल ने अब्बास-मस्तान की फिल्म किस किसको प्यार करूं साइन की है और वे रोल की डिमांड के हिसाब से वजन घटाने के चक्कर में चोट लगा बैठे।

सूत्रों के अनुसार कपिल को खाना काफी पंसद है, लेकिन उन्होंने अपनी इस आदत पर कंट्रोल करते हुए खाना काफी कम कर दिया। साथ ही रोजाना सुबह दो और शाम को एक घंटे का वर्कआउट किया। वर्कआउट सेशन के दौरान कपिल की कमर में चोट आ गई और उन्हें कुछ समय तक बेड रेस्ट की सलाह दी गई। कपिल ने भी इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि मैं कुछ समय के लिए बेड रेस्ट पर था।

यह चोट उस वक्त लगी थी जब मैं फिल्म के एक गाने की शूटिंग के लिए राजस्थान गया था। मैंने जरूरत से ज्यादा वर्कआउट कर लिया था। ऎसा नहीं करना चाहिए था। सब कुछ संतुलन में होना चाहिए। अब चोट ठीक हो रही है। मैं इसके लिए फीजियोथेरेपी की भी मदद ले रहा हूं।

ओपिनियन